BHRAMAR KI MADHURI KAARAN AUR NIVARAN

Saturday, February 19, 2011

काँटा अपने घर मत पालो.

<<<< काँटा अपने घर मत पालो>>>

काँटा अपने घर मत पालो.
इतना ही जो शौक तुम्हे- तो
जाओ उसकी "बाड़"- लगा दो 
उस सीमा के पास.  
सुरेंद्रशुक्लाभ्रमर
१९.२.११

No comments: