BHRAMAR KI MADHURI KAARAN AUR NIVARAN

Monday, April 18, 2011

पंखुड़ियाँ छू छू उड़ जाते


पंखुड़ियाँ छू छू
उड़ जाते


भौंरे जब तुम 
उड़ उड़ जाते 
किसी कली या 
खिले  फूल पर 
गुन-गुन कर के  
जवां बनाते
उसके कानों -
कुछ कह जाते
पंखुड़ियाँ छू छू
उड़ जाते
वहीँ पास में
छोटी थी  मै
बेसब्री से -
बनूँ बड़ी कब
सारा मंजर
देख रही थी

सुरेन्द्र कुमार शुक्ल भ्रमर५
१८.४.11




No comments: